व्यापार वृद्धि के ज्योतिष उपाय रेमेडीज टोटके

व्यापार वृद्धि के ज्योतिष उपाय रेमेडीज टोटकेव्यापार वृद्धि के ज्योतिष उपाय रेमेडीज टोटके से व्यापार में आ रही बाधा संकट को दूर कर सकते है जैसा की बहुत लोगो के साथ होता है की उनका दूकान, होटल, शॉप नहीं चलता जबकि दुकान मैं मार्किट में होता है और अगल बगल में रोज ग्राहक भरे रहते है मगर उनके दूकान में बिक्री नहीं होती ऐसा नजर दोष, बंदिश, या तंत्र मंत्र बाधा से होता है और कभी कभी ऐसा शनि राहु या किसी दूषित ग्रह बाधा या उसके महादशा से भी होता है जब हम बिना किसी कारणवश दुःख कष्ट भोगना पड़ता है मगर व्यापार वृद्धि के ज्योतिष उपाय रेमेडीज टोटके के जरिये हम ऐसे समस्याओ को दूर कर सकते है और व्यापार में तरक्की पा सकते है तो आइये जाने कुछ विशेष व्यापार वृद्धि के ज्योतिष उपाय रेमेडीज टोटके के बारे में ।

•काले तिल और सफेद सरसों को व्यवसाय स्थल या दुकान के मुख्य द्वार पर रख दें। इससे बिक्री बढ़ जाती है।

•यदि दुकान या व्यवसाय ठीक से नहीं चल रहा हो, तो व्यवसाय स्थल या दुकान के मुख्य द्वार पर इमली की लकड़ी की कील बनाकर खोंस दें। इससे व्यवसाय या दुकान ठीक से चलने लगती है।

•शनिवार के दिन पान के 8 पत्तों और पीपल के 5 पत्तों को लाल धागे में बांधकर व्यवसाय स्थल की पूर्व दिशा में लटका दें। इससे व्यवसाय की गति ठीक हो जाती है।

•यदि व्यवसाय में निरंतर हानि हो रही हो, तो बरगद के पेड़ की जड़ को रेशमी धागे से बांधकर दुकान आदि के मुख्य द्वार के समीप लटका दें। यदि रेशमी धागे को लाल चंदन से रंग दिया जाए, तो हानि दूर होकर लाभ होने लगता है।

•बुधवार के दिन 7 लड्डू को व्यवसायी के सिर के चारों ओर सात बार घुमाकर कोई व्यक्ति सूर्योदय से पहले सफेद गाय को खिलाकर घर लौट आए और इस दौरान पीछे मुड़कर न देखे, तो व्यवसाय में लाभ होता है।

एक कच्चा सूत लेकर उसको सुद्ध केशर से रंग ले और उसके बाद रंगकर उस सूत को हाथ में लेकर ॐ महालक्ष्मीये नमः का ५०१ जप करे और फुक मरते रहे उसके बाद उस सूत को अपने दुकान या व्यवसाय के जगह पर ले जाकर जो मुख्या दरवाजा हो उसके ऊपर टांग दे या बांध दे तो इस से व्यापार के दिन दुगनी रत चौगुनी तररककी होती है

•सोमवार के दिन शिवलिंग पर दूध आदि अर्पित कर रुद्राक्ष की माला से “ॐ सोमेश्वराय नम:” मंत्र का एक माला जप करें। इससे व्यवसाय में खूब लाभ होता है।

•पूर्णमासी को जल में थोड़ा दूध मिलाकर चंद्रमा को अर्घ्य देने और अपने व्यवसाय की उन्नति की प्रार्थना करने से चमत्कारिक लाभ होता है।

शनिवार के दिन अगर एक हरा पीपल का पत्ता जो खुद से जमीं पर गिरा हुआ हो यानि तोडा न जाये उसको घर लाकर गंगाजल से धोकर उसकी पूजा करके १०८ बार गायत्री मंत्र का विधिपूर्वक जप करके उस पत्ते को आप अपने दुकान या तिजोरी में ले जाकर रख दे या वह रख दे जहा धन रखते हो और अगले शनिवार वो पत्ता वापस उसी पीपल के पेड़ के जड़ में जाकर दाल दे और वापस दूसरा पत्ता लाकर यही प्रकिया करे और इसको हर शनिवार दोहराते रहे तो व्यवसाय और दुकानदारी में वृद्धि होती रहती है और धन की बाधा नहीं आती |