Call NowWhatsapp

वशीकरण फेल होने की कुछ प्रमुख वजह और उनके समाधान

Vashikaran

वशीकरण फेल होने के कुछ प्रमुख वजह और उनके समाधान के बारे में आज हम यहाँ चर्चा करेंगे | यु तो आज गूगल में सबकुछ मिलता है सिर्फ ढूढ़ने की जरुरत है मगर वशीकरण तांत्रिक जैसे कुछ पहलु पर अगर चर्चा करे तो वशीकरण स्पेशलिस्ट तांत्रिक का मिलना इंटरनेट के माध्यम से लगभग नामुमकिन है | इंटरनेट पर कुछ ही व्यक्ति ऐसे है जो असली तांत्रिक और एस्ट्रोलॉजर्स है जिनसे बात करने के बाद आपको खुद ही समझ आने लगता है की सामने वाला कितना जानकार है क्युकी जानकर व्यक्ति से बात करने पर उसकी जानकारी और उसकी छमता खुद समझ आ ही जाती है | फिर भी वशीकरण मंत्र क्यों फेल हो जा रहे है इसकी अगर आप जानकारी चाहते है तो यहाँ हमारा लेख पढ़े | वशीकरण विद्या मानव के मन और मस्तिष्क पर असर करने वाली क्रिया है और वशीकरण का सीधा अर्थ है किसी व्यक्ति विशेष को अपने अनुकूल कर लेना आजकल बहुत से लोग जो संक्रिण मानसिकता से ग्रषित है वो वशीकरण का गलत इस्तेमाल ऐसे कार्यो में करते है जिसमे वो किसी के साथ सिर्फ शारीरिक सम्बन्ध बनाना चाहते है या फिर उसका इस्तेमाल करना चाहते है ऐसे में वो ऐसे खतरनाक विद्या का प्रयोग करने से भी नहीं चूकते जिनसे किसी का अहित हो जाये क्युकी उनका उद्देश्य पवित्र नहीं होता वो सिर्फ अपने कार्य सिद्धि के लिए वशीकरण का इस्तेमाल करना चाहते है ऐसे लोगो द्वारा किया कोई भी वशीकरण मंत्र तंत्र टोटका कभी भी सफल नहीं होता और ऐसे में वो सिर्फ यहाँ वह पैसे बर्बाद करते फिरते है मगर होता जाता कुछ नहीं| तंत्र में हमेसा से मन शुद्धि, आत्म शुद्धि, सरीर शुद्धि के नियम बताये गए है जिनका हर एक व्यक्ति को पूर्ण रूप से पालन करना होता है चाहे वो किसी भी प्रकार का वशीकरण कर रहा हो मगर उसके ऊपर ये नियम लागू होते है | जब भी आप किसी मंत्र का उच्चारण करते है वो आपके सरीर से एक विशेष प्रकार के ऊर्जा को सूक्छम रूप में प्रसारित करता है मंत्र ध्वनि ऊर्जा को अपनी और खींचती है फिर व्यक्ति के मस्तिष्क के ऊर्जा के अनुरूप कार्य करती है | अगर साधारण सब्दो में कहे तो वशीकरण मंत्र से आप एक ऊर्जा का आवाहन करते है जो आपके मस्तिष्क के तरंगो के सहारे एक विशेष दिशा की और निर्देश पाकर चल देती है| अब अगर आप यहाँ मन में कुछ गन्दी सोच लेके बैठे हुए है मन सुद्ध ही नहीं है दिमाग में खुराफात चल रही है परन्तु आप मंत्र का जाप कर रहे है तो ऐसे में वशीकरण की जो ऊर्जा आपने आवाहन की वो जब मस्तिष्क के ऊर्जा से टकराएगी तो ऐसे में वो ऊर्जा नस्ट हो जाएगी क्युकी आपकी शारीरिक ऊर्जा जो है वो मंत्र ऊर्जा के विपरीत है | ये ठीक ऐसे ही होगा जैसे आप बिजली के दो तारो को आपस में सटा दे तो शार्ट सर्किट हो जाताहै |ऐसे में या तो खुद आपका कोई नुकसान हो जायेगा या फिर आपका वशीकरण फेल हो जायेगा | इसीलिए वशीकरण तंत्र को सबसे पहले किसी उच्च कोटि के गुरु के शरण में रहकर धीरे धीरे सीखा जाता है फिर उसपर प्रैक्टिस की जाती है उसके बाद वशीकरण के जरिये छोटे मोठे कार्य किये जाते है फिर जेक वशीकरण सक्सेसफुल होता है ये एक साइंस है न की कोई जादू. मंत्र और तंत्र एक विज्ञान है और इस विज्ञान का प्रचार प्रसार आदिकाल से होता आ रहा है मगर आज सबकुछ कमर्शियल हो चूका है | वशीकरण कैसे करे ये इतना आसान नहीं है की आपने गूगल में खोजै दो चार एक्सपर्ट्स से बात की पैसे दिए और हो गया वशीकरण | वशीकरण करने के लिए बहुत सामर्थ्य चाहिए होता है | किसी महाविद्या या शक्ति की सिद्धि होनी चाहिए साथ ही एक सच्चे गुरु की कृपा और साथ होनी चाहिए और वशीकरण करने वाले पर विशेष श्रद्धा होनी चाहिए, यूटो जब भी आप वशीकरण या किसी भी अन्य समस्या को लेकर किसी बाबा से बात करते है तो गुरूजी कहकर ही बात करते है मगर क्या वाकई में आपकी अंतरात्मा में उस व्यक्ति के लिए कोई श्रद्धा है? अगर एक मूर्ति ईश्वर की रख दे घर में तो क्या देवता घर में विराजमान होंगे? बिना उनपर श्रद्धा रखे भक्ति रखे और प्राथना किये पूजा किये देवता प्रसन्न नहीं होते वैसे ही गुरु कभी सिर्फ मीठी बातो से प्रसन्न नहीं होते और जबतक आप गुरु को प्रसन्न नहीं करेंगे कोई आपको अपनी विद्या क्यों सिखाएगा और क्यों आपको वशीकरण के वो सूत्र बताएगा जिनसे आपका कार्य हो सके? तंत्र में जितने भी कर्म होते है उसमे वशीकरण एक ऐसा विज्ञान है जहा मानव मन के सूक्छम तरंगो के जरिये विलक्छण कर्म किये जाते है | ये कभी असफल होता है तो कभी सफल मगर वशीकरण तांत्रिक से ज्यादा ये वशीकरण करवाने वाले पर निर्भर होता है की उसका वशीकरण सफल होगा या असफल क्युकी अगर उसके मन में पाप भावनाये होगी, उसके दिमाग में कुछ गलत उद्देश्य होंगे तो ऐसे में पवित्र वशीकरण मंत्रो का विपरीत प्रभाव होगा और कार्य असफल हो जायेगा इसीलिए जब कोई उच्च होती का तांत्रिक होता है और आप उसके संपर्क में होते है तो वो आपको तत्काल ब्रम्हचर्य और सात्विक जीवन जीने के लिए कहता है इसका अर्थ तो कुछ ही लोग समझते है बाकि तो सिर्फ दिखावा करते है ब्रम्हचर्य का सात्विक जीवन का अर्थ सिर्फ सम्भोग का त्याग करना, मॉस मदिरा का त्याग करना भर नहीं है | इसका अर्थ शारीरिक रूप से नहीं अपितु मानसिक रूप से भी है | मन को सुद्ध होना चाहिए, दिमाग में कोई नकारत्मक ख्याल न आये और इंसान इस नियम का कुछ समय तक पूर्ण भक्ति श्रद्धा से पालन करे जबतक उसके तांत्रिक के द्वारा वशीकरण कार्य के लिए तांत्रिक अनुष्ठान प्रयोग किये जा रहे हो तो उसके कार्य निश्चित रूप से सफल होते ही है इसमें कोई भी संशय नहीं रखना चाहिए |

क्यों और कब काम नहीं करता वशीकरण प्रयोग

वशीकरण मंत्र के संकल्प के दौरान और मंत्र जाप के दौरान आप जिस व्यक्यि विशेष का वशीकरण कर रहे है आपको उसके तरफ दिमाग को पुरे तरह से एकाग्र करना होता है और ये ध्यान टूटना नहीं चाहिए ध्यान के अलावा मन में कोई भी स्वार्थ नहीं होना चाहिए अगर स्वार्थी होकर कोई भी मंत्र जप या विधि करेंगे तो उसका फल नहीं प्राप्त होता, ध्यान समर्पण और भक्ति विस्वास रख कर ही मंत्र जप करना चाहिए |

ऐसा भी हो सकता है की जिसके लिए वशीकरण मंत्र प्रयोग नियम विधि पूर्वक की जा रही है उसके जीवन में बहुत सरे अवरोध हो जैसे की उसका मानसिक बल अधिक हो उसके चक्रो की ऊर्जा बहुत अधिक हो या उसपर किसी ने पहले से तांत्रिक क्रिया करवा रखी हो या उसके कुलदेवता या कुलदेवी की कोई विशेष कृपा उस परिवार पर या व्यक्ति पर हो तो ऐसे में आपके द्वारा किया गया वशीकरण कत्तई कार्य नहीं करेगा और आपका वशीकरण फेल हो जायेगा ऐसे में जब वशीकरण कार्य न करे तो गुरु की शरण लेनी चाहिए और गुरु से अनुरोध करके उनसे प्राथना करनी चाहिए की वो अपने सिद्धि के जरिये ये पता करे की कौन सी बढ़ा मार्ग में है जो बाधा उत्पन्न कर रही है |

वशीकरण के प्रभाव

कुलदेवता को बांध कर या कुलदेवी को बांध कर एक विशेष व्यक्ति जो खुद का बचाव कर रहा हो उसको कमजोर किया जा सकता है अगर कुलदेवी कुलदेवता को तांत्रिक द्वारा बाँध दिया जाये तो ऐसे में व्यक्ति को कुलदेवता कुलदेवी द्वारा मिल रही सभी सहायता समाप्त हो जाएगी और आपका किया गया कार्य वशीकरण मंत्र विधि तांत्रिक क्रिया सभी असर करने लगेगी |

अगर व्यक्ति विशेष जिसपर वशीकरण कर्म बार बार किया जा रहा हो मगर असफल हो रहे हो उसने कोई ताबीज या कवच धारण किया हो जो की सिद्ध हो तो भी तंत्र मंत्र का असर नहीं होता और आप चाहे जितना भी वशीकरण प्रयोग करले उसका कुछ भी अहित नहीं होता न ही वो आपके प्रभाव में आता है ऐसे में उस कवच को तंत्र मंत्र के क्रिया द्वारा निष्क्रिय करना आवश्यक हो जाता है

अगर व्यक्ति विशेष ने अपने घर की बंदिश करवा रखी है तो भी आपके द्वारा भेजी गयी शक्ति मंत्र प्रयोग का बल घर के अंदर प्रविस्ट नहीं हो पता हलाकि ऐसे में कोई नुकसान नहीं होता व्यक्ति जब घर के बहार होगा आपके अनुकूल आचरण करेगा मगर जब घर के अंदर होगा तो विपरीत हो जायेगा क्युकी घर के अंदर जाते ही आपकी साडी वशीकरण विद्या का असर बाहर ही रह जायेगा |

किसी भी व्यक्ति के सफलता और असफलता में सबसे बारे जिम्मेदार उसके ग्राम देवता कुल देवता कुल देवी और स्थान देवता देवी होते है | खास कर तंत्र में इनका विशेष स्थान है अगर आप वशीकरण प्रयोग करने जा रहे है या कर रहे है और बर्बर असफल हो रहे है तो सबसे पहले ये ध्यान दे की आपके कुलदेवता, कुलदेवी, ग्राम देवता, स्थान देवता कही आपसे रुस्ट तो नहीं है | अगर ऐसा है तो सबसे पहले पूजा देकर विधि धन पूर्वक अपने कुलदेवता कुलदेवी ग्राम देवता और स्थान देवता को मनाये उनको प्रसन्न करे और गुरु से प्राथना करके ये जानने की कोशिश करे की आपके द्वारा दी गयी पूजा को स्वीकार किया गया या नहीं हमेसा ध्यान रखे की जबतक आपके कुलदेवता कुलदेवी आपके पक्ष में नहीं होंगे तबतक आप चाहे जितने ग्रह के उपाय करले, विधि करे, तंत्र मंत्र करे उसका कोई असर नहीं होना है और आप या तो तभी सफल हो सकते है जब आपके ऊपर किसी बहुत ही उच्च कोटि के सिद्ध महात्मा या तांत्रिक का हाथ हो |

एक समय में विभिन्न प्रकार के वशीकरण क्रिया करवाने के भी दुष्परिणाम होते है ऐसे बहुत सारे लोग है जो एक ही समय में अलग अलग वशीकरण स्पेशलिस्ट से वशीकरण एक ही व्यक्ति के ऊपर करवा देते है ताकि जल्दी असर हो जाये और सोचते है की इतने सरे लोग वशीकरण कर रहे है तो किसी का तो वशीकरण काम करेगा ही ये आपकी सबसे बड़ी भूल है क्युकी हर तांत्रिक के पास अलग अलग प्रकार की ऊर्जा होती है कोई तांत्रिक अघोरी विद्या का उपासक होता है तो कोई महाविद्या का कोई वैष्णवी शक्ति का तो कोई मुस्लिम विद्या का अब जरा सोचे की अगर एक समय में विभिन्न प्रकार की ऊर्जा का संचार करके एक ही व्यक्ति पर छोड़ दिया जाये तो क्या होगा? या तो वो व्यक्ति पागल हो जायेगा जिसकी संभावना बहुत काम है अपितु इसकी संभावना बहुत अधिक होती है की आपके अलग अलग प्रकार के वशीकरण ऊर्जा आपस में ही टकरा के नस्ट हो जाएगी और कुछ भी हासिल नहीं होगा इसलिए जब वशीकरण मंत्र विद्या का इस्तेमाल कर रहे हो तो एक समय में एक ही विधि चलाये १० नहीं |

बहुत बार ऐसा भी होता है जब एक इंसान को पाने के लिए दो अलग अलग लोग एक ही समय में प्रयासरत होते है और दोनों ही तंत्र विद्या वशीकरण के माध्यम से उसको वश में करने के लिए कर्म कर रहे होते है ऐसे में आपको वशीकरण करने के लिए कठिन मार्ग से गुजरना होगा क्युकी सबसे पहले आपको दूसरे व्यक्ति के वशीकरण को काटना होगा जो की तंत्र मार्ग से ही संभव है दूसरा ये की दूसरे व्यक्ति को दूर करना होगा या उसको हटाना होगा ताकि वो वशीकरण न कर सके उसके साथ उसी समय आपको अपना वशीकरण भी जारी रखना होगा ऐसे में जब उसकी ऊर्जा ख़तम हो जाएगी और आपकी ऊर्जा सक्रिय होगी तो आपका वशीकरण कार्य करने लगेगा और आपको उस इंसान के ऊपर वशीकरण का प्रभाव दिखने लगेगा | अगर किसीने आपको आपके प्रेमी प्रेमिका या लवर से दूर करने के लिए कुछ करके खिला पीला दिया होगा तो ऐसे में वशीकरण जल्दी काम नहीं करता और जितना वशीकरण में क्रिया करते है उसका ३ गुना बढ़ा कर करने से लाभ होता है |

बहुत से लोग ऐसा सोचते है की किसी तांत्रिक को पैसे देने से पूजा कराने से वशीकरण हो जायेगा मगर ये बहुत ही गलत सोच है सिर्फ पैसे दे देने से वशीकरण नहीं होता वशीकरण क्रिया के लिए खुद भी क्रियाये करनी होती है क्युकी तांत्रिक का कोई सम्बन्ध उस इंसान के साथ नहीं होता जिसपर आप वशीकरण करा रहे है तो तांत्रिक के सिर्फ क्रिया करने से उस हद तक बेचैनी, घबराहट या भावुकता तो महसूस होगी इंसान को मगर उसके अंदर आकर्षण का भाव नहीं होगा क्युकी वो तांत्रिक को जानता ही नहीं है | यद् रखे कभी अजनबी व्यक्ति पर वशीकरण का प्रभाव नहीं होता इसलिए हमेसा एक सच्चा गुरु और तांत्रिक आपको खुद भी वशीकरण क्रिया में शामिल होने के लिए कहता जरूर है क्युकी जब आप खुद वशीकरण करते है खुद मंत्र जप करते है साधना करते है उपाय करते है तो उस से ऊर्जा उत्पन्न होती है और वो ऊर्जा आपके मस्तिष्क तरंगो के जरिये निर्धारित दिशा के और आकर्षित होती है और तांत्रिक द्वारा की जा रही तंत्र विद्या के वशीकरण मंत्रो अनुष्ठानो के प्रभाव से उनका तेज और आवेश कई गुना बढ़ जाता है और ऐसे जिस इंसान के लिए वशीकरण क्रिया कर रहे है उसके ऊपर असर होना सुरु हो जाता है | आप जब खुद वशीकरण के मंत्रो को जपते है और गुरु उसी समय पर अपने सिद्ध स्थान से आपके लिए तांत्रिक विधि करता है तो ऐसे में दोनों के द्वारा की गयी तंत्र विद्या की ऊर्जा आपस में समाहित हो जाती है और ऐसे में आपके द्वारा जो मस्तिष्क तरंगे दिशा निर्धारित करती है उसी और चल देती है आपके काम को अंजाम देने |

वशीकरण विद्या में खिलाई पिलाई गयी चीज बहुत जल्दी असर करती है और उनका असर प्रभावी होता है अगर आप किसी पर मंत्र और तंत्र के जरिये वशीकरण कर रहे है तो हो सकता है उसमे समय लगे मगर अगर सिद्ध की गयी तांत्रिक वस्तु जैसे मोहिनी, इंद्रजाल, इत्यादि खिला दी जाये तो बहुत ही शिग्रह असर दिखने लगता है

अपनी साधना और मंत्र को हमेसा गुप्त रखे और किसी से भी इसके बारे में कोई बात न करे सिवाय अपने गुरु के और गुरु उसीको बनाये जिसको उच्च कोटि का ज्ञान प्राप्त हो और जहा से उचित मार्गदर्शन मिल सके जिस व्यक्ति विशेष के लिए मन में श्रद्धा भाव अपने आप जागृत हो जाये, अपने आप मन में प्रेम का अनुभव हो जिसके लिए मन में आदर की भावना जग जाये और आकर्षण अपने आप बढ़ने लगे तो समझ जाये ये अंतरात्मा की पुकार है और उसके बाद उसी व्यक्ति को गुरु बनाना चाहिए | गुरु बनाने के लिए भी ये आवश्यक है की गुरु आपके अनुरूप हो अगर आप तामसिक प्रवित्ति के है और गुरु सात्विक तो आपकी उसके साथ नहीं जमेगी और अगर आप सात्विक है और गुरु तामसिक तो भी नहीं जमेगी इसलिए गुरु हमेसा अपने अनुरूप चुने ताकि आप गुरु के बताये मार्ग पर चल सके

 

वशीकरण से प्रभावित व्यक्ति के लक्षण की पहचान | वशीकरण होने पर मिलते हैं ये संकेत, यूं तोड़े इसकी काट | आइये जाने की वशीकरण क्या है  | वशीकरण के लक्छण इन हिंदी | क्या वशीकरण सच होता है | वशीकरण के नुकसान | तुरंत वशीकरण मंत्र इन हिंदी | नाम से वशीकरण कैसे करे | वशीकरण का असर कबतक होता है | वशीकरण का असर कबतक रहता है |

Comments are closed.

error: