Call NowWhatsapp

शत्रुओं को शांत करने, अपने अनुकूल बनाने अथवा अपने वश में करने का अचूक मंत्र

Tantra Mantra

शत्रु दुश्मन को शांत करे अपने अनुकूल बनाने वाला और वश में करने के वाला ये अद्भुत मंत्र है जिसके माध्यम से ना आप सिर्फ अपने सत्रु का शमन कर सकते है बल्कि अपने सभी शत्रु दुश्मनो का समूल नाश भी कर सकते है और उनको अपने वश में भी कर सकते है साथ ही अगर चाहे तो अपने सभी शत्रु दुश्मन को शांत या अनुकूल कर सकते है इसलिए आपको करना होगा निचे दिए मंत्र का प्रयोग ये याद रखे की इस मंत्र को हमेशा गोपनीय रखे और कभी भी भूल कर किसी के सामने इस मंत्र का जप न करे | ब्रम्हचर्य का पालन करे और इस मंत्र का तभी इस्तेमाल करे जब आपको वाकई इसकी जरुरत हो बिना वजह किसी को अगर आप इस मंत्र से परेशां करते है तो इसका उल्टा फल भी आपको भुगतना पर सकता है | जब शत्रु दुसमन चारो और से आपको घेर ले और आपको बचने का कोई रास्ता न सूझे और दुश्मन आपके जीवन को समाप्त करने पर तुला हो या आपके परिवार का कोई बहुत बारे अहित करने के फ़िराक में हो तब इस मंत्र का इस्तेमाल करना चाहिए

अपने विरोधियों अथवा शत्रुओं को शांत करने, अपने अनुकूल बनाने अथवा अपने वश में करने के लिये, नीचे दिये गए मंत्र का नियमबद्ध जप करना आश्चर्यजनक प्रभाव दिखाता है-

|| नृसिंहाय विद्महे, वज्र नखाय धी मही,तन्नो नृसिहं प्रचोदयात् ||

सूर्य उदय होने के पूर्व शांत और एकांत जगह पर बैठ के दक्छिन दिशा के और मुख करके सरसो के तेल का दीप जला के निचे दिए मंत्र का रुद्राक्ष की माला से २१ माला जप नियमित रूप से करे और संकल्प शत्रु के नाम स्थान के नाम से लेले और जैसी कामना हो वैसा बोले

अगर आप किसी बहुत ही गंभीर या गुप्त शत्रु से परेशां है और आप शत्रु नाशक मंत्र प्रयोग करने में असमर्थ है तो आप हमसे संपर्क कर सकते है हमारे द्वारा हर प्रकार से शत्रु बाधा निवारण यन्त्र कवच दिए जाते है और शत्रु बाधा दूर करने के लिए अनुष्ठान और यज्ञ किये जाते है यजमान के नाम और गोत्र से संकल्पित शत्रु नाशक दुर्गा मंत्र | शत्रु नाशक शिव मंत्र | शत्रु नाशक काली मंत्र | शत्रु नाशक शाबर मंत्र | शत्रु नाशक हनुमान मंत्र | शत्रु नाशक स्तोत्र | शत्रु नाश मंत्र | गुप्त शत्रु के उपाय करवाने के लिए संपर्क करे परन्तु ध्यान दे हमारे द्वारा सिर्फ उचित समस्याओ के लिए ही शत्रु नाश समाधान दिए जाते है किसी को भी बेवजह परेशां करने के लिए हम कोई भी तंत्र मंत्र समाधान नहीं देते |

Comments are closed.

error: