Call NowWhatsapp

अचूक रोग नाशक मंत्र टोटके

Tantra Mantra

रोग नाशक मंत्र ऐसे मंत्र होते है जिनके माध्यम से जटिल से जटिल रोगो का शमन किया जा सकता है जिनमे महा मृत्युंजय मंत्र और मृत संजीवनी मंत्र विधि सबसे महत्वपूर्ण है और इसकेलिए इस प्रयोग को करने के लिए बहुत सरे योगिक नियम और विधि का पालन करना होता है साथ ही शिव कृपा और भक्ति आवश्यक होती है | ये ऐसे मंत्र है जिनको रोग नाश और जीवन को बचाने के लिए ब्रम्हास्त्र माना जाता है मगर ये प्रयोग करने के लिए किसी योग्य तांत्रिक और वैदिक कर्मकांड के जानकार से सम्पर्क करके ही करवाए | रोग नाशक मंत्रो में कुछ और भी ऐसे दुर्लभ मंत्र है जो सरल भी है और व्यक्यि इनके माध्यम से अपने समस्त रोग और बीमारी दर्द को दूर कर सकता है और बिना किसी लम्बे अवधी के अनुष्ठान के तो आइये आज जानते है ऐसे ही कुछ दुर्लभ रोग शमन मंत्रो के बारे में

 || ॐ क्री क्षं सं सं स: ||

108 बार जप कर गाय के घी को अभिमंत्रित कर लें। अभिमंत्रित घी का एक पल की मात्रा में एक माह तक प्रतिदिन दान करने और उसके बाद मधु पान करने से सब प्रकार के रोग खत्म हो जाते हैं। यदि इस घी को पीने के बाद एक माह तक गाय का दूध पिया जाए, तो आंखों की रोशनी बढ़ती है। यदि इस घृत को चावल के लड्डू के साथ सेवन किया जाए, तो शूल रोग का नाश होता है। अथवा इस घी को गन्ने के रस के साथ नियमित सेवन करने से रोगी की अनेक व्याधियां नष्ट होती हैं।

‘क्रीं’ 

मंत्र को 108 बार उच्चरित करने के बाद एक कटोरी गंगा जल को इस मंत्र से 21 बार अभिमंत्रित कर रोगी को पिलाने से शारीरिक कष्टों से मुक्ति मिलती है। यह प्रक्रिया सात दिन तक निरंतर करनी चाहिए

 || क्रीं हूं, ह्रीं ||

यदि मंत्र का उच्चारण कर सात बार श्री महाकाली देवी को चावल अर्पित किए जाएं, तो भय का नाश होता है।

नागेश्वर की जड़ को मधु यानी शहद के साथ ‘ॐ नम: दर्शनाय’ का उच्चारण करते हुए घिसे और उदर रोगी को पिला दें, तो लाभ होता है।

|| ॐ शक्तिदाय नम: ||

यदि मंत्र का 108 बार उच्चारण पुनर्नवा का रस व गाय के घी को अभिमंत्रित कर सेवन करें, तो आंखों की ज्योति बढ़ती है।

Powerful Mantra For Removing All Kind Of Problems, Fatality

It is a powerful mantra for removing all kind of problem and fatality and this you can use to have changes for your own problem, it work in all kind of problem and trouble so do not feel hesitate to use it for your own purpose. At wednesday morning, take bath do complete worship of lord ganesha and after that seat on kush asan and face east side and using emerald or green hakik rosary do the powerful mantra for removing all kind of problem and fatality and keep it continue till problem get solved. It will improve your situations and remove problem completely in sometime. Do 5 rosary cycle chanting per day.

|| Aum Namoh Wighanharaye Gan Ganapatyeh Namah ||

Comments are closed.

error: