अचूक धन आकर्षण मंत्र प्रयोग

अचूक धन आकर्षण मंत्र प्रयोगअचूक धन आकर्षण मंत्र प्रयोग के जरिये आप भी दरिद्रता और दुःख को दूर भगा सकते है इसकेलिए कुछ खास नहीं बस हमारे द्वारा दिए गए अचूक धन आकर्षण मंत्र प्रयोग का नियमित रूप से जप करे और जहातक हो सके माँ लक्ष्मी और विष्णु जी की यथा संभव उपासना करे जल्दी ही जीवन में बदलाव सुरु हो जायेगे साथ ही ॐ श्रीम ब्रीज़ी नमः का जाप भी धन आकर्षण करता है और ये दोनों ही मंत्र धन प्राप्ति के अचूक उपाय है “ॐ हृं नम:” मंत्र का प्रतिदिन 21 बार जप करने का विधान शास्त्रों में बताया गया है। ऐसा माना जाता है कि इस मंत्र से दरिद्रता अवश्य दूर हो सकती है और जैसे-जैसे जप की संख्या बढ़ती जाएगी, भक्त की सुख-समृद्धि बढ़ती जाएगी। इसके साथ ही यह भी ध्यान रखना जरूरी है कि लक्ष्मी जी की पूजा के दौरान भगवान विष्णु की तस्वीर दाहिनी ओर रखें। यह भी धन-संपत्ति के आगमन के लिए महत्वपूर्ण उपाय है।

 

 

 

लक्ष्मी कमलवासिनी मंत्र प्रयोगलक्ष्मी कमलवासिनी मंत्र प्रयोग

लक्ष्मी कमलवासिनी मंत्र प्रयोग: इंद्र ने लक्ष्मी की आराधना ‘ॐ कमलवासिन्यै नम:’ मंत्र से की थी। लक्ष्मी कमलवासिनी मंत्र प्रयोग आज भी अचूक है। दीपावली के दिन या किसी भी शुभ दिन से यदि अपने घर के ईशानकोण में कमलासना पर मिट्टी या चांदी की लक्ष्मी प्रतिमा को विराजित कर, श्रीयंत्र के साथ उक्त मंत्र से पूजन किया जाए और निरंतर जाप किया जाए, तो चंचला लक्ष्मी स्थिर होती है। घर में सुख-समृद्धि आती है और व्यापार आदि में पदोन्नति मिलती है। इसलिए हमेशा सद्मार्ग पर चलते हुए धन अर्जन करें, यह लक्ष्मी आपके जीवन को सुखमय बना देंगी।

Summary
अचूक धन आकर्षण मंत्र प्रयोग | धन सुख संपत्ति दिलाने वाला अचूक मंत्र
Article Name
अचूक धन आकर्षण मंत्र प्रयोग | धन सुख संपत्ति दिलाने वाला अचूक मंत्र
Description
अचूक धन आकर्षण मंत्र प्रयोग, धन सुख संपत्ति दिलाने वाला अचूक मंत्र है जिसके जरिये सभी धन सम्बन्धी समस्या बाधा कष्ट को दूर कर, आर्थिक कष्ट को दूर कर हम जीवन में धन सुख समृद्धि को प्राप्त कर सकते है अगर आपका बिज़नेस नहीं चल रहा या किसी प्रकार की आर्थिक बाधा है तो ये तंत्र प्रयोग आजमाए और देखे जीवन हो रहे बदलाव को साथ ही ज्योतिष परामर्श अवस्य करवा ले किसी भी कुंडली विशेषज्ञ से ताकि इस तंत्र प्रयोग का संपूर्ण लाभ प्राप्त हो सके |
Author
Publisher Name
Tantra Mantra Yantra Anusandhan Kendra
Publisher Logo